कुल जनसंख्‍या का 80 प्रतिशत से अधिक लोग अमला योग में जन्‍म ले सकते है !!

'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' प्राचीन ज्‍योतिषीय ग्रंथों में वर्णित सारे योगों के प्रभाव की पुष्टि के लिए संभावनावाद के नियमों का सहारा लेता है। इसकी मान्‍यता है कि कोई भी राजयोग तभी राजयोग माना जा सकता है , ज‍ब कुल जनसंख्‍या के बहुत कम प्रतिशत कूंडली मे उस राजयोग के होने की पुष्टि हो। 6 दिसंबर 2009 को प्रकाशित किए गए एक आलेख क्‍या जन्‍मकुंडली के विभिन्‍न ग्रहयोगों की पुष्टि गणित के संभाब्‍यता के नियम से हो जाती है ??में मैने गणित के संभावनावाद के नियम के अनुसार दुनियाभर के लोगों की जन्‍मकुंडली में गजकेशरी योग के होने की संभावना का आकलन किया था और बताया था कि 4/11 की संभाब्‍यता रखने वाला यह नियम गजकेशरी योग के फलों को देने की सामर्थ्‍य तबतक नहीं रख सकता , जबतक पूरी दुनिया में इतनी समृद्धि न आ जाए , जिससे लगभग 37 प्रतिशत लोग उसके फल को प्राप्‍त करने लायक न हो जाएं।

उसी योग की पुस्‍तक में दूसरे नंबर पर अमला योग की चर्चा की गयी थी। इस योग की परिभाषा देते हुए लिखा गया है कि लग्‍न से 10वें स्‍थान पर या चंद्रमा जिस राशि पर बैठा हुआ हो , उस राशि से दसवें स्‍थान पर शुभग्रह बैठे हों ,तो जन्‍मकुंडली मे अमला योग बनता है और इस योग में जन्‍म लेनेवाला व्‍यक्ति प्रसिद्ध , गुणवान और ख्‍याति प्राप्‍त करनेवाला होता है। ऐसा व्‍यक्ति पूर्ण सुखी जीवन व्‍यतीत करता है और संपूर्ण सुखों को भोगता है। ऐसा व्‍यक्ति चरित्रवान एवं सज्‍जन होता है।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ज्‍योतिष में चंद्र, बुध, शुक्र, केतु और बृस्‍पति ये पांचो शुभग्रह माने जाते हैं। अमला योग के अनुसार इनमें से एक की भी उपस्थिति से मुनंष्‍य सुखी जीवन जी सकता है। लग्‍न से 10वें स्‍थान पर किसी एक शुभ ग्रह की उपस्थिति की संभावना 1/12 होगी, लेकिन इन पांचों में से किसी एक की संभावना 5/12 हो जाएगी। इसी प्रकार चंद्र राशिवाले स्‍थान से भी इन पांचों ग्रहों में से एक के होने की संभावना भी 5/12 होगी। इन दोनो प्रकार की संभावना में से किसी एक संभावना के बनने का चांस 10/12 होगा। इसका अर्थ यह है कि संभावनावाद के नियम के अनुसार कुल जनसंख्‍या का बडा भाग यानि 80 प्रतिशत से अधिक जनसंख्‍या अमला योग में जन्‍म ले सकती है।

इस आधार पर इस योग की सत्‍यता को तभी स्‍वीकारा जा सकता है, जब पूरे विश्‍व का विकास इतना हो चुका हो कि 80 प्रतिशत से अधिक लोग प्रसिद्ध, गुणवान और ख्‍याति प्राप्‍त करनेवाले और पूर्ण सुखी जीवन व्‍यतीत करनेवाले हों। कम से कम आज के समय में, जब विश्‍व के 90 प्रतिशत से अधिक लोग कष्‍ट में जीवन यापन करने को बाध्‍य हों, इस योग की प्रामाणिकता का कोई तुक नजर नहीं आता।


-----------------------------------------------------
चंद्र-राशि, सूर्य-राशि या लग्न-राशि से नहीं,
जन्मकालीन सभी ग्रहों और आसमान में अभी चल रहे ग्रहों के तालमेल से
खास आपके लिए तैयार किये गए दैनिक और वार्षिक भविष्यफल के लिए
Search Gatyatmak Jyotish in playstore, Download our app, SignUp & Login
------------------------------------------------------
अपने मोबाइल पर गत्यात्मक ज्योतिष को इनस्टॉल करने के लिए आप इस लिंक पर भी जा सकते हैं ---------
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.gatyatmakjyotish

नोट - जल्दी करें, दिसंबर 2020 तक के लिए निःशुल्क सदस्यता की अवधि लगभग समाप्त होनेवाली है।

कुल जनसंख्‍या का 80 प्रतिशत से अधिक लोग अमला योग में जन्‍म ले सकते है !! कुल जनसंख्‍या का 80 प्रतिशत से अधिक लोग अमला योग में जन्‍म ले सकते है !! Reviewed by संगीता पुरी on January 30, 2010 Rating: 5

7 comments:

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

इस नई ज्योतिषी जानकारी के लिए आभार संगीता जी !

Gyan Dutt Pandey said...

अमला योग तो नहीं, कर्म योग अपने हाथ में है।

विनोद कुमार पांडेय said...

संगीता जी आप का बहुत बहुत आभार जो आप अपनी इस ज्योतिष् विद्वता से संपूर्ण ब्लॉग जगत को एक से बढ़ कर एक बढ़िया जानकारी से निरंतर अवगत करा रही हैं...बहुत बहुत धन्यवाद

डॉ. मनोज मिश्र said...

ज्ञान जी की बात में दम है..

संगीता पुरी said...

ज्ञानदत्‍त पांडेय जी,
क्‍या आपको नहीं लगता कि कर्म भी परिस्थितियों के नियंत्रण में होती है ??

डॉ टी एस दराल said...

अमला योग ----- चरित्रवान और सज्जन व्यक्ति।
फिर तो आजकल अमला योग का प्रभाव कहीं नज़र ही नहीं आता।

Vinashaay sharma said...

आपसे सहमत हूँ,संगीता जी परिस्थतियाँ,भाग्य जनित होती हैं ।

Powered by Blogger.