करवाचौथ : क्या कहते हैं ग्रह ???


हिंदू पंचाग के अनुसार करवाचौथ कार्तिक माह के चौथे दिन होता है। इस दिन जिनकी शादी होने वाली हैं या जो शादीशुदा हैं, वो अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत करती हैं। ये व्रत सुबह सूरज उगने से पहले से लेकर और रात्रि में चंद्रमा निकलने तक रहता है। उत्तर भारत के लगभग सभी राज्यों , हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, पंजाब, राज्यस्थान और उत्तर प्रदेश में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन सिर्फ पति की लंबी आयु की ही नहीं उसके काम-धंधे, धन आदि इच्छाओं की पूर्ति की प्रार्थना करती हैं। करवाचौथ की शुरुआत होने के बारे में कई कथाएं हैं, पर करवा नाम की पतिव्रता स्त्री की कहानी सर्वाधिक प्रसिद्द है।

‘करवाचौथ’ को लाइमलाइट में लाने में हिंदी सिनेमा का योगदान बड़ा है। 80 के दशक से ही फिल्मों में करवाचौथ का चलन लोकप्रिय होने लगा था। आज यह फिल्मों का प्रभाव ही है कि करवाचौथ का व्रत सबसे कठिन व्रत माना जाता है, यह कहकर कि इसमें बिना पानी और अन्न का एक भी दाना ग्रहण नहीं किया जाता है, जबकि भारतवर्ष में तीज और जियुतिया जैसे २४ घंटे बिना अन्न जल ग्रहण किये जाने वाले व्रत महिलाएं सदियों से करती आ रही हैं। खबर है कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष चाँद १५ मिनट पहले निकलेगा, इसलिए व्रत में कुछ राहत ही समझा जाये। 

भारत में मनाये जाने वाले सभी त्योहारों के कोई न कोई सन्देश होते हैं, इस दिन का भी कोई सन्देश निकलकर आये तो अच्छा है। सुहागन महिलाओं के लिए इस त्यौहार के महत्व को देखते हुए यूपी की ट्रैफिक पुलिस ने शानदार पहल करते हुए महिलाओं के लिए संदेश जारी किया है कि इस करवा चौथ महिलाएं अपने पति को हेलमेट पहनाएं।इतना ही नहीं इस पोस्टर में एक तस्वीर भी लगाई गई है। तस्वीर में महिला ने एक हाथ से छलनी पकड़ी हुई है तो उसके दूसरे हाथ में हेल्मेट है और आखिर में लिखा है- 'हेलमेट पहने, सुरक्षित रहें'। पुरुष भी अपनी पत्नियों और परिवार के हित में घर में सुरक्षा मामलों को अहमियत दे तो अच्छा रहेगा।

ग्रहों की स्थिति देखें तो आज सूर्य और बुध अच्छा और शनि  गड़बड़ प्रभाव डालने वाला है। इसलिए स्वस्थ्य की दृष्टि से सूर्य और बुध लग्नेश वाले अच्छा महसूस करेंगे , जबकि शनि लग्नेश वालों के समक्ष कुछ दिक्कतें आएँगी यानि  मिथुन, सिंह और कन्या लग्न वाली महिलाओं पर व्रत का शरीर पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा, जबकि मकर और कुम्भ लग्न वाले स्वस्थ्य की समस्या से जूझेंगे। यह त्यौहार दांपत्य प्रेम का है , इसमें भी सप्तमेश का प्रभाव पड़ेगा।  जिनका सप्तमेश सूर्य या बुध होंगे , आज उनके प्रेम में ऊष्मा रहेगी। जिनका सप्तमेश शनि होंगे, वे कुछ दिक्कत प्राप्त करेंगे। इस दृष्टि से धनु, कुम्भ और मीन लग्न वालों पर गृह का शुभ प्रभाव तथा कर्क और सिंह लग्न वालों पर अशुभ प्रभाव पड़ेगा।  कृपया सावधानी बरतें। 

अंत में सबों के लिए करवा चौथ की शुभकामनायें .... अपने हाथों में चूड़ियाँ सजाये , माथे पर अपने सिन्दूर लगाए , निकली हर सुहागन चाँद के इंतज़ार में , ईश्वर  उनकी हर मनोकामना पूरी करें !!
करवाचौथ : क्या कहते हैं ग्रह ??? करवाचौथ : क्या कहते हैं ग्रह ??? Reviewed by संगीता पुरी on 10/08/2017 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.