हमारे एप्प से ऐसे समझें, पूरे 2020 में कैसे रहेंगे स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास ?? - Gatyatmak Jyotish

Latest

ज्योतिष में कुछ नया सीखना है -जैसे ज्योतिष के प्रकार, सिद्धांत ज्योतिष, कुंडली विचार, फलित ज्योतिष गणित इन हिंदी, 9 ग्रह की जानकारी, ग्रहों को कैसे मजबूत करें - गत्यात्मक ज्योतिष के विचार से सभी ग्रहों का एक उपाय हैं, कुंडली परामर्श ऑनलाइन के लिए ज्योतिष व्हाट्सप्प नंबर - 8292466723

BANNER 728X90

Monday, 20 January 2020

हमारे एप्प से ऐसे समझें, पूरे 2020 में कैसे रहेंगे स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास ??


जब आप हमारे एप्प के वार्षिक पूर्वानुमान लिंक पर क्लिक करेंगे तो आपको DROPDOWN में पहले नंबर पर स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास आदि से सम्बंधित भविष्यवाणियाँ दिखाई देंगी। निःशुल्क सब्सक्रिप्शन लेने के बाद आप यहाँ आपके स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास आदि मामलों में  कई तरह की बातें पूरे दो साल तक के लिए कई समय-अंतराल देकर लिखी हुई होंगी।


  1. स्वास्थ्य की स्थिति अच्छी रहनी चाहिए। स्वास्थ्य को लेकर निश्चिंती का अहसास होना चाहिए। आत्मविश्वास की प्रचुरता बनी रहनी चाहिए। आत्मविश्वास को बढ़ानेवाली बातें होती रहनी चाहिए।
  2. स्वास्थ्य गड़बड़ रह सकता है। स्वास्थ्य को लेकर निराशा महसूस हो सकती है। आत्मविश्वास को कमजोर करनेवाली घटनाएं हो सकती हैं। आत्मविश्वास काम नहीं कर सकता है।
ऊपर लिखे गए दोनों तरह  पूर्वानुमान सामान्य से कुछ अच्छी और सामान्य से कुछ बुरी स्थिति की जानकारी देता है , इसमें बहुत बड़ी बात नहीं होती, जबतक स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास का प्रतिनिधित्व करनेवाले आपके जन्मकालीन ग्रह कमजोर न हों और आपके ये मामले सेंसिटिव न चल रहे हों। लेकिन जब ऐसे पूर्वानुमान लिखे गए हों ---------


  1. कुछ शुभ-ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों से सम्बंधित सफलता, ख़ुशी या आनंददायक वातावरण मिलना चाहिए। इसे प्राप्त करने के लिए इन मामलों में पूरा ध्यान बना रहना चाहिए। इस दिशा में किया जानेवाला मेहनत भी फलदायी होना चाहिए। अपनी पहचान की इच्छा बननी चाहिए । स्वास्थ्य को मजबूती देने के कार्यक्रम बनने चाहिए। व्यक्तिगत गुणों को बढ़ाने में गंभीरता बननी चाहिए। स्मार्ट लोगों का सुखद साथ मिलना चाहिए।
  2. कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों से सम्बंधित असफलता , कष्ट या दवाबभरा वातावरण उपस्थित हो सकता है , जिसको सुधारने के लिए इन मामलों पर पूरा ध्यान बना रह सकता है। यह किनके लिए कितना प्रभावी होगा , इसे स्पष्टतः समझने और सटीक निर्णय लेने के लिए कभी-कभी हमारा कंसल्टेशन लेना जरूरी महसूस हो सकता है। स्वास्थ्य की कमजोर हो रही स्थिति की ओर ध्यान जा सकता है। व्यक्तित्व की किसी कमजोरी को दूर करने के लिए भी विकल्प ढूंढे जा सकते हैं। पर सबको सुधारकर आत्मविश्वास को मजबूती न दे पाने का अफ़सोस बन सकता है।

ऐसे दोनों पूर्वानुमान बहुत ही अच्छी और बहुत ही बुरी स्थिति के संकेतक हैं। हम सामान्य बोलचाल में भी इसे किसी का फॉर्म में होना और किसी का फॉर्म में न होना कहते हैं। इसलिए ऐसी भविष्यवाणियों के पहले अतिरिक्त तैयारी की जरूरत है।

कभी कभी सामान्य पूर्वानुमान में ऐसी बातें लिखी मिलेंगी -----


  1. कुछ क्रियाशील ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों से संबंधित जिम्मेदारी बढ़नी चाहिए। इन मामलों में या तो स्वयं बदलाव होना चाहिए या परिस्थितियाँ कुछ ऐसी बननी चाहिए कि इनमे मजबूती या बदलाव लाए जाएँ।
देखने में यह पूर्वानुमान बिलकुल सामान्य लग रहा, पर यह समय-अंतराल भी बड़े परिवर्तन देता है। पर यह पॉजिटिव होगा या नेगेटिव, इसे बतलाना अभी के समय में एप्प के लिए मुश्किल होता है, इसलिए इसे यूँ ही छोड़ दिया गया है।

कहीं-कहीं स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, आत्मविश्वास के ऋणात्मक के साथ भी 1 वाक्य जोड़ा गया है , जो ऋणात्मकता के तीव्रता को बढ़ाता है ------


  1. कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों में मनोनुकूल माहौल के नहीं बनने से या असफलता प्राप्त होने से कुछ निराशा सी बन सकती हैं। इन मामलों के माहौल को बदलने की कोशिशें भी बेकार हो सकती हैं।
लेकिन  इस तरह के  वाक्यों के रहने से बाधाएं बहुत मामूली रहेंगी -----


  1. कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों में सम्बन्ध की गड़बड़ी या इससे सम्बंधित किसी कार्य के आगे न बढ़ने जैसी थोड़ी बाधा आ सकती हैं। पर उसके बाद माहौल अनुकूल होना चाहिए।
किसी समय में ऐसे वाक्य हों तो -----


  1. कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों की कुछ कमजोरी बनी रह सकती हैं । ऐसे समय में कोई बड़ा कदम उठाने से झंझट बढ़ सकते हैं।
इन मामलों में जबतक जरूरी न हो, कोई काम न शुरू करें।

किसी समय में ऐसे वाक्य हो सकते हैं  -----

  1. कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से ये सारे मामले कठिनाई या असफलता उपस्थित कर किसी मामले से सम्बंधित वातावरण को ऋणात्मक बना सकते हैं , जिसका मनोवैज्ञानिक प्रभाव बुरा पड सकता है।

इसके अतिरिक्त भविष्यवाणियों में किसी समय में ऐसे वाक्य हो सकते हैं  -----


  1. कुछ शुभ-ग्रहों के प्रभाव से इन मामलों के द्वारा सुख या सफलता मिलने से किसी मामले से सम्बंधित वातावरण सकारात्मक दिखाई देना चाहिए , जिसका मनोवैज्ञानिक प्रभाव अच्छा पड़ना चाहिए।
कल के धन-कोष , साख , परिवार  मामलों में ऐसी ही चर्चा  होगी।



No comments: