गुण मिलान टेबल - Gatyatmak Jyotish

Latest

A blog reducing superstitions in astrology, introducing it as a developing science & providing online astrology consultation in hindi-- 8292466723

Tuesday, 28 April 2020

गुण मिलान टेबल

गुण मिलान टेबल

हिन्दू धर्म में विवाह की प्रक्रिया के शुरुआत में ही अष्टकूट चक्र से वर-वधु की कुंडली मिलाने की परम्परा रही है। दोनों की कुंडली मिलाते वक्त कम से कम 18 गुणों का मिलना शास्त्र सम्मत है, अधिक मिल जाये तो और अच्छा । जन्मकुंडली में वर्ण, वश्य , तारा, योनी ,ग्रह मैत्री, गण, भकूट, नाड़ी आदि से मिले स्कोर का योग १८ या उससे अधिक होना चाहिए। ज्योतिष के सभी सॉफ्टवेयर कुंडली मिलान की सुविधा ऑनलाइन देते हैं, इसमें कोई गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं रहती है। ज्योतिष को नहीं जानने वाले भी इस सॉफ्टवेयर का उपयोग आराम से कर सकते हैं। 

gun milan table

janam kundali milan


इसके अलावा मंगल दोष की जाँच भी अलग से की जाती है। यदि दोनों कुंडलियों में मंगल संतुलित है, तो माना जाता है कि दंपत्ति को वैवाहिक सुख प्राप्त होंगे। मंगल के दोष को हमलोग इसलिए अधिक प्रभावी नहीं मानते, क्योंकि 12 राशि में से 5 राशि में मंगल होने से लोग मांगलिक हो जाते हैं, इस दृष्टि से कुल जनसँख्या के 5 /12 यानि 44% लोग मांगलिक होते हैं। मांगलिक होना बहुत बड़ी बात नहीं, मंगल कमजोर हो तो विवाह में देर अवश्य होती है। 

हमारे हिसाब से तालमेल रखनेवाले प्रेमी-प्रेमिका की शादी से पहले कुंडली मिलाने की आवश्यकता नहीं होती है, फिर भी बहुत सारे अभिभावक और पंडित उनकी शादी न किये जाने के पक्ष में फैसला करते हैं। हालाँकि जहाँ समस्याएँ आती हैं, वहीँ समाधान भी होता है। गुण नहीं मिलने की स्थिति में पंडित कुछ ज्योतिषीय उपाय की व्यवस्था करवाते हैं। जन्म तिथि न होने की स्थिति में दोनों के नाम से भी मिलान किया जाता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए शादी से पहले वर-वधु नाम में बदलाव लाकर भी इस समस्या को सुलझा सकते हैं।

Janam kundali milan

ज्योतिष शास्त्र में किसी की जन्म-कुंडली से सभी भावों के बारे में सटीक भविष्यवाणी की जा सकती है, किसी के वैवाहिक जीवन के बारे में भी बताया जा सकता है कि उनके जीवन में सुख है या नहीं ? फिर कुंडली मिलान का औचित्य हमें समझ में नहीं आया कभी !

जन्म-कुंडली नहीं मिलने पर भी शादी के बाद आपसी सहयोग के द्वारा आप अपने जीवन को सुखद बना सकते हैं। कोई समस्या आये तो एक दूसरे पर इल्जाम न लगाकर मिलकर समस्या से जुझा और उसका हल किया जा सकता है। आप सच्चा प्यार करते हैं तो कुंडली न मिलने की स्थिति में विवाह से मुँह न मोड़ें। बेहतर हो कुंडली मिलाने को प्रोसेस ही छोड़ दिया जाये। हमारे यहाँ कहा ही गया है, अनजान सदा कल्याण !