बचपन में मैं ऐसी ही कुंडलियां बनाती होऊंगी ......

अपने द्वारा बनायी गयी 27 वर्ष पहले की जन्‍मकुंडली मिलने के बाद मैं ज्‍योतिष के क्षेत्र में अपने अनुभव को लेकर काफी खुश थी और इंतजार कर रही थी कि पापाजी कब दिल्‍ली पहुंचे और मैं उनसे इस संबंध में बात कर सकूं। जैसे ही उनके दिल्‍ली पहुंचने की खबर मिली , मैने झट से फोन लगाया और उन्‍हे सारी बातें बतलायी। उन्‍होने बताया कि मैं तो और पहले से जन्‍मकुंडलियां बनाया करती थी । मैने आश्‍चर्य से पूछा कि आपने तो बचपन से ही आपकी सख्‍त हिदायत थी कि मैं ग्रेज्‍युएशन से पहले ज्‍योतिष की पुस्‍तकें नहीं छूऊंगी , फिर मै पहले कुंडली कैसे बना सकती हूं ??

इसके जबाब में पापाजी के शब्‍द थे ... ' कोई व्‍यक्ति विशेषज्ञ यूं ही नहीं बनता ,  बचपन में जब बच्‍चे कागज और कलम या पेन्सिल का प्रयोग करना शुरू करते हैं और कुछ रेखाचित्र खींचने लगते हैं , उस वक्‍त तुम कागज में कुंडलियां बनाया करती थी। हालांकि उस वक्‍त तुम्‍हें यह भी मालूम नहीं था कि कुंडली में जो खाने होते हैं उसमें 1 से 12 तक के अंक ही भरे जाते हैं या फिर उसमें लिखे जानेवाले अक्षर ग्रहों के छोटे रूप होते हैं। इसलिए तुम खेल खेल में जो कुंडलियां बनाया करती थी , उसमें सारे खानों में कोई भी अंक और कोई भी अक्षर लिखा होता था।' फोन रखने के बाद मैं एक बार फिर से बचपन में खो गयी और आपके लिए कंप्‍यूटर पर ये दोनो कुंडलियां बनायी , आखिर बचपन में मैं ऐसी ही कुंडलियां तो बनाती होऊंगी ......




YEAR PREDICTION 2020
----------------------------------------------------------------------------------------------------
चंद्र-राशि, सूर्य-राशि या लग्न-राशि नहीं, 
अपने जन्मकालीन सभी ग्रहों पर आधारित सटीक दैनिक और वार्षिक भविष्यफल के लिए
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
Search Gatyatmak Jyotish in playstore , Download our app , SignUp & Login
----------------------------------------------------------------------------------------------------
नोट - दिसंबर 2020 तक के लिए निःशुल्क सदस्यता की अवधि लगभग समाप्त होनेवाली है।
----------------------------------------------------------------------------------------------------


Previous
Next Post »

10 comments

Click here for comments
6/20/2011 08:10:00 am ×

खेल भी खेला तो कुंडलियाँ बनाने वाला।
इसे कहते हैं होनहार बिरवान के होत के चिकने पात।

शुभकामनाएं

Reply
avatar
6/20/2011 08:57:00 am ×

आपके इस जुनून ने ही
आपको इस मुकाम पर पहुँचाया है!
शुभकामनाएँ!

Reply
avatar
6/20/2011 09:50:00 am ×

बचपन की यादें भी बहुत सुहानी होती हैं.

Reply
avatar
sonal
admin
6/20/2011 11:21:00 am ×

tabhi to aaj aap khaas hui hai

Reply
avatar
6/20/2011 11:43:00 am ×

बचपन से ही इस विद्या में माहिर थीं आप ..

Reply
avatar
Unknown
admin
6/20/2011 01:45:00 pm ×

हमारा रुझान तो बचपन में ही मिल जाता है...तभी तो आज आप इस मुकाम पर हैं...

Reply
avatar
idanamum
admin
6/20/2011 03:14:00 pm ×

होनहार विद्वान के होत चिकने पात!!!

Reply
avatar
Anonymous
admin
6/20/2011 03:17:00 pm ×

खेल खेल में कुंडलियां बनाया करती थी

वाह!

Reply
avatar
6/20/2011 09:57:00 pm ×

खेल खेल में कुंडलियां बनाया करती थी

वाह!
वाह ...

Reply
avatar
12/25/2011 05:54:00 pm ×

क्या पता पूर्व जन्म का कोई संस्कार हो!

Reply
avatar