सभी पाठकों को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !!



Rakhi greetings, wishes and comments for Orkut Myspace

सभी पाठकों को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !! सभी पाठकों को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !! Reviewed by संगीता पुरी on August 13, 2011 Rating: 5

18 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

आपको भी रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामना .

मनोज कुमार said...

आज इस पावन पर्व के अवसर पर बधाई देता हूं और कामना करता हूं कि आपकी कलाई पर बंधा रक्षा सूत्र हर समय आपकी रक्षा करें।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

aapko bhi bahut bahut shubhkaamnayen.

vandan gupta said...

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

astroshop18 said...

aapkobhi bhut badhai hai rakshabandhan ki :)

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

इस पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं॥

वन्दना अवस्थी दुबे said...

अपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं

ताऊ रामपुरिया said...

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

DR. ANWER JAMAL said...

ब्लॉगिंग के माध्यम से हमारी कोशिश यही होनी चाहिए कि मनोरंजन के साथ साथ हक़ीक़त आम लोगों के सामने भी आती रहे ताकि हरेक समुदाय के अच्छे लोग एक साथ और एक राय हो जाएं उन बातों पर जो सभी के दरम्यान साझा हैं।
इसी के बल पर हम एक बेहतर समाज बना सकते हैं और इसके लिए हमें किसी से कोई भी युद्ध नहीं करना है। आज भारत हो या विश्व, उसकी बेहतरी किसी युद्ध में नहीं है बल्कि बौद्धिक रूप से जागरूक होने में है।
हमारी शांति, हमारा विकास और हमारी सुरक्षा आपस में एक दूसरे पर शक करने में नहीं है बल्कि एक दूसरे पर विश्वास करने में है।
राखी का त्यौहार भाई के प्रति बहन के इसी विश्वास को दर्शाता है।
भाई को भी अपनी बहन पर विश्वास होता है कि वह भी अपने भाई के विश्वास को भंग करने वाला कोई काम नहीं करेगी।
यह विश्वास ही हमारी पूंजी है।
यही विश्वास इंसान को इंसान से और इंसान को ख़ुदा से, ईश्वर से जोड़ता है।
जो तोड़ता है वह शैतान है। यही उसकी पहचान है। त्यौहारों के रूप को विकृत करना भी इसी का काम है। शैतान दिमाग़ लोग त्यौहारों को आडंबर में इसीलिए बदल देते हैं ताकि सभी लोग आपस में ढंग से जुड़ न पाएं क्योंकि जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उसी दिन ज़मीन से शैतानियत का राज ख़त्म हो जाएगा।
इसी शैतान से बहनों को ख़तरा होता है और ये राक्षस और शैतान अपने विचार और कर्म से होते हैं लेकिन शक्ल-सूरत से इंसान ही होते हैं।
राखी का त्यौहार हमें याद दिलाता है कि हमारे दरम्यान ऐसे शैतान भी मौजूद हैं जिनसे हमारी बहनों की मर्यादा को ख़तरा है।
बहनों के लिए एक सुरक्षित समाज का निर्माण ही हम सब भाईयों की असल ज़िम्मेदारी है, हम सभी भाईयों की, हम चाहे किसी भी वर्ग से क्यों न हों ?
हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा हमें यही याद दिलाता है।

रक्षाबंधन के पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

देखिये
हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

डॉ. मोनिका शर्मा said...

बधाई....हार्दिक शुभकामनाएं

Alpana Verma said...

हार्दिक शुभकामनाएं!

Chaitanyaa Sharma said...

हैप्पी राखी..... इस प्यारे त्योंहार की ढेर सारी बधाई ...

Shah Nawaz said...

Aapko bhi Hardik Shubhkamnaaen!

विष्णु बैरागी said...

आपको भी हार्दिक शुभ-कामनाऍं।

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

आदरणीया दीदी संगीता पुरी जी
सादर प्रणाम !


आपको भीरक्षाबंधन की
हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !


स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ
-राजेन्द्र स्वर्णकार

केवल राम said...

हमारी तरफ से भी बधाई .....देर से ही सही ......!

Powered by Blogger.