कोरोना, वैश्विक आर्थिक मंदी आदि से संबंधित समस्याओं में 22 मार्च से क्रमिक सुधार संभावित - Gatyatmak Jyotish

Latest

A blog of astrology in Hindi describing basics of Jyotish Shastra, zodiac signs basics, Vedic astrology basics, basics of horoscope, here you can see 'Horoscope Tomorrow' free with many more paid services like Horoscope Making, Horoscope career, Horoscope love and Horoscope compatibility. Here you can understand Is astrology a science or not, Is horoscope matching a scientific method or not. -- 8292466723

Sunday, 15 March 2020

कोरोना, वैश्विक आर्थिक मंदी आदि से संबंधित समस्याओं में 22 मार्च से क्रमिक सुधार संभावित

astrology prediction for coronavirus in hindi 


पिछले कुछ समय से ऐतिहासिक महत्वपूर्ण घटनाओं की चर्चा की जाए तो इनमें कोराेना वायरस की चर्चा बिल्कुल आम है जो वैश्विक चुनौती के रूप में उभर कर आई है। ( astrology prediction for coronavirus ) इसका जनमानस पर न केवल प्रत्यक्ष या मनोवैज्ञानिक दुष्प्रभाव पड़ा है बल्कि इसकी वजह से कई देशों की अर्थव्यवस्था बिल्कुल चरमरा गई है। कई देशों के शेयर बाजार में लगातार गिरावट का दौर जारी है खासकर पर्यटन, उड्डयन आदि व्यवसायों में अबतक की सर्वाधिक गिरावट दर्ज की गई है। सबसे बड़ा सवाल है कि ये सारी बातें कबतक भयभीत करेंगी .


'गत्यात्मक ज्योतिष' के अनुसार - मध्य दिसंबर 2019 के आसपास शुरू हुई किसी भी तरह की व्यक्तिगत या वैश्विक समस्याओं की निरंतरता 22 मार्च के आसपास की तिथियों तक बनी रहेंगी। ( astrology prediction for coronavirus ) 22 मार्च या इसके आसपास भारत सहित कई देशों के शेयर मार्केट या इनकी करेंसी अपने निम्नतम स्तर पर, कोराेना वायरस का प्रकोप अपने उच्चतर स्तर पर एवं अनेक क्षेत्रों में मौसम में उठापटक जारी रहेगी। पुनः इसके बाद धीरे धीरे इनसे संबधित खबरें समाचार सुर्खियों से हटती चली जाएंगी। 


दरअसल विश्व का सृजन इसे सुन्दर और सुखी बनाने के लिए हुआ है। बहुत बार बड़े भूकम्प, सुनामी, महामारी, विश्वयुद्ध आदि का खतरा, किसी आकाशीय पिंड या धूमकेतु के पृथ्वी से टकराने की खबरे आती रहती है और टल भी जाती है। इन सभी को दृष्टिकोण में रखते हुए अनन्त शक्ति और आकाशीय पिंडों प्रभाव को स्वीकार करना पड़ता है।अंततः इसी निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है कि ऊपर वाले ने संसार का सृजन सुन्दर बनाने के लिए किया है। ऊपरी शक्ति का बोध कराने के लिए अस्थायी रूप से रोग, शोक परिताप आदि के कई वज़ह आते रहते हैं लेकिन सार्वजनिक दुःख का कोई भी कारण चिरस्थाई नहीं होता।( astrology prediction for coronavirus ) कोरोना पर एक और लेख पढ़ें।




मई के मध्य में एक अन्य प्राकृतिक आपदा संभावित है, जिसकी चर्चा आगामी आर्टिकल के माध्यम से करूंगा।


1 comment:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

अच्छी जानकारी।
कभी तो दूसरों के ब्लॉग पर भी अपनी टिप्पणी दिया करो।